रबीन्द्रनाथ टैगोर के 10 कभी ना भूलने वाले अनमोल विचार with Audio 2017

रबीन्द्रनाथ टैगोर के 10 कभी ना भूलने वाले अनमोल विचार with Audio

Life Changing Videos in Hindi

रबीन्द्रनाथ टैगोर (7 May 1861 – 7 August 1941) को गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है। वे विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबल पुरस्कार विजेता हैं। बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नयी जान फूँकने वाले युगदृष्टा थे। वे एशिया के प्रथम नोबेल पुरस्कार सम्मानित व्यक्ति हैं। वे एकमात्र कवि हैं जिसकी दो रचनाएँ दो देशों का राष्ट्रगान बनीं – भारत का राष्ट्र-गान जन गण मन और बाँग्लादेश का राष्ट्रीय गान आमार सोनार बाँग्ला गुरुदेव की ही रचनाएँ हैं।

रबीन्द्रनाथ टैगोर का जन्म कोलकाता के जोड़ासाँको ठाकुरबाड़ी में हुआ। उनकी स्कूल की पढ़ाई प्रतिष्ठित सेंट जेवियर स्कूल में हुई। उन्होंने बैरिस्टर बनने की चाहत में १८७८ में इंग्लैंड के ब्रिजटोन में पब्लिक स्कूल में नाम दर्ज कराया। उन्होंने लन्दन विश्वविद्यालय में कानून का अध्ययन किया लेकिन १८८० में बिना डिग्री हासिल किए ही स्वदेश वापस आ गए।

रबीन्द्रनाथ टैगोर के 10 कभी ना भूलने वाले अनमोल विचार

  1. जो कुछ हमारा है वो हम तक तभी पहुचता है जब हम उसे ग्रहण करने की क्षमता विकसित करते हैं।
  2. यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाजे बंद कर देंगे तो सच बाहर रह जायेगा।
  3. आस्था वो पक्षी है जो सुबह अँधेरा होने पर भी उजाले को महसूस करती है।
  4. मैं एक आशावादी होने का अपना ही संसकरण बन गया हूँ। यदि मैं एक दरवाजे से नहीं जा पाता तो दुसरे से जाऊंगा- या एक नया दरवाजा बनाऊंगा। वर्तमान चाहे जितना भी अंधकारमय हो कुछ शानदार सामने आएगा।
  5. हम ये प्रार्थना ना करें कि हमारे ऊपर खतरे न आयें, बल्कि ये प्रार्थना करें कि हम उनका सामना करने में निडर रहे।
  6. उच्चतम शिक्षा वो है जो हमें सिर्फ जानकारी ही नहीं देती बल्कि हमारे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सद्भाव में लाती है।
  7. हम महानता के सबसे करीब तब होते हैं जब हम विनम्रता में महान होते हैं।
  8. सिर्फ खड़े होकर पानी देखने से आप नदी नहीं पार कर सकते।मनुष्य जीवन महानदी की भांति है जो अपने बहाव द्वारा नवीन दिशाओं में राह बना लेती है।
  9. उपदेश देना सरल है, पर उपाय बताना कठिन।
  10. प्रसन्न रहना बहुत सरल है, लेकिन सरल होना बहुत कठिन है।

Recommended:  मंद बुद्धि से महानता तक के 10 गुरुमंत्र Thomas Alva Edison in Hindi 2017

“We will Love to see your Thoughts or Questions about this Article in Comments.”

and 

“Change Others Life by Sharing this Article with your Friends.

Share this with your Friends:

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
800
wpDiscuz